About Me

government scheme dairy farm up to rs 7 lakh loan and 25 parents subsidy for animal husbandry

government scheme dairy farm up to rs 7 lakh loan and 25 parents subsidy for animal husbandry


government scheme dairy farm up to rs 7 lakh loan and 25 parents subsidy for animal husbandry

पशुपालन के लिए 7 लाख रुपये तक का लोन और 25% सब्सिडी ki full information in Hindi


India एक ओर जहां खेती (farming) के लिए दुनियाभर में मशहूर है वहीं, दूसरी तरफ पशुपालन भी इसका अभिन्न अंग रहा है. देश के किसानों के लिए हमेशा से ही खेती farming जितना महत्वपूर्ण रहा है उतना ही महत्वपूर्ण पशुपालन भी रहा है. अगर मौजूदा वक्त में भारत ( India) में पशुपालन व्यवसाय (business) की बात करें तो पशुधन गणना-2012 की तुलना में 4.6 प्रतिशत अधिक है. जोकि यह दर्शाता है कि India में अभी भी पशुपालकों में पशुपालन का kareage है और पशुपालन व्यवसाय से वो अच्छा मुनाफा अर्जित कर रहें है. Kisano के लिए पशुपालन मुनाफा देने वाला व्यवसाय है. Kisano के लिए पशुपालन एक ऐसा व्यवसाय माना जाता है जिसमें नुकसान होने की संभावना बेहद कम होती है.


हाल ही के चलते वक्त में पशुपालन में आज कई नई वैज्ञानिक पद्धतियां (technology) विकसित हो गई हैं जोकि किसानों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो रही है. इसी के ध्यान में रखकर central goverment ने dairy इंटरप्रेन्योर डेवलपमेंट scheme संचालित की है. इस scheme के तहत 10 भैंस की dairy को 7 लाख का ऋण पशुधन विभाग मुहैया कराएगा. हर वर्ग के लिए subsidy का भी प्रावधान है. Is scheme का लाभ सभी को मिले, इसके लिए कार्ययोजना बनाई है.

government scheme dairy farm up to rs 7 lakh loan and 25 parents subsidy for animal husbandry


जैसे कि kamdhenu और mini kamdhenu scheme पूर्व में संचालित की गई थी जिसके लिए भैंस पालन करने वाले को खुद के पास से भी बडी रकम लगानी होती थी. जमीन भी bandhak होती तो तमाम नियम थीं, जिसको हर इंसान आसानी से पूरी नहीं कर पाता था. यह scheme जब शुरू हुई तो छोटी dairy की योजनाएं खत्म हो गईं. करीब 1 year पहले यह बड़े project भी बंद हो गए. अब central Goverment ने village में लोगों को रोजगार मुहैया कराने के साथ ही दुध उत्पादन बढ़ाने के लिए dairy  इंटरप्रेन्योर development scheme शुरू की है. Goverment की ओर से File मंजूर होते ही दो दिन के अंदर subsidy भी दी जाएगी. सामान्य वर्ग के लिए 25 present और महिला व एससी वर्ग के लिए 33 present subsidy दी जाएगी. यह subsidy संबंधित dairy संचालक के ही account में रहेगी.


इस पोस्ट को भी पढें :- आपको उपयोगी हो सकती है 


👉Pardhanmantri Kisan Samman Nidhi yojana ki tisri kist aj se start


👉Pradhan Mantri Kisan Pension Yojana Full Information in hindi - all information


👉pm modi kisan Nidhi yojana ki pehli kist karenge jama


👉Prdhan Mantri Kishan Samman Nidhi Yojana All Information In Hindi


👉Ayushman bharat yojana all information in hindi | ayushman bharat yojana registration process


Dairy लगाने के लिए आप भी नाबार्ड से ले सकते हैं 25% subsidy


देश में दुधारू पशुओं से रोजगार की लगातार बढ़ती संभावनाओं के बीच central Goverment ने dairy उद्यमिता विकास योजना (DEDS) शुरू की है. अगर आप भी milk dairy खोलकर अपनी सुविधा के हिसाब से काम करना और पैसे कमाना चाहते हैं तो DEDS आप जैसे लोगों के लिए ही है.
India में dairy business की बढ़ती संभावना को देखते हुए Central Goverment ने साल 2018-19 में डेयरी उद्यमिता विकास योजना (DEDS) के लिए 323 करोड़ रुपये का बजट रखा है.

government scheme dairy farm up to rs 7 lakh loan and 25 parents subsidy for animal husbandry


इस रकम से Goverment dairy खोलने वाले लोगों को 25-33 present subsidy देती है. अगर आप भी dairy business की शुरुआत करना चाहते हैं तो Goverment की इस योजना (DEDS) का लाभ उठा सकते हैं.
अगर आप 10 दुधारू पशुओं की dairy खोलते हैं तो आपके project की लागत करीब 7 लाख रुपये तक आती है. Central Goverment के कृषि मंत्रालय द्वारा चलाई जा रही DEDS scheme में आपको लगभग 1.75 लाख रुपये की subsidy मिलेगी.


कितने पशु रख सकते हैं?


Central Goverment के कृषि मंत्रालय द्वारा यह subsidy राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) के माध्‍यम से दी जाती है.
कृषि मंत्रालय द्वारा जारी seraculer के मुताबिक, अगर आप एक छोटी dairy खोलना चाहते हैं तो उसमें आपको cross bid cow (औसत से अधिक दूध देने वाली) जैसे साहीवाल, रेड सिंधी, गिर, राठी या भैंस रखनी होंगी.
आप इस DEDS scheme के तहत खोली गयी dairy में 10 दुधारू पशु रख सकते हैं.

government scheme dairy farm up to rs 7 lakh loan and 25 parents subsidy for animal husbandry


DEDS में कितनी subsidy मिलेगी?


Dairy उद्यमिता विकास योजना (DEDS) के मुताबिक आपको dairy लगाने में आने वाले लागत का 25 present capital subsidy मिलेगी. अगर आप अनुसूचित जाति/जनजाति की category में आते हैं तो आपको 33 present subsidy मिल सकती है.
यह subsidy आपको अधिकतम 10 दुधारू पशुओं के लिए ही दी जाएगी.
एक पशु के लिए central Goverment 17,750 रुपये की subsidy देती है. अनुसूचित जाति/जनजाति के लोगों के लिए यह subsidy 23,300 रुपये प्रति पशु हो जाती है.

इसका मतलब यह है कि एक सामान्य जाति के व्यक्ति को 10 दुधारू पशुओं की dairy खोलने पर 1.77 लाख रुपये की subsidy मिल सकती है.
दो पशु से भी शुरू कर सकते हैं DEDS के तहत dairy उद्यमिता विकास योजना (DEDS)के तहत दो दुधारू पशु से भी dairy unit शुरू की जा सकती है. अगर आप कम पूंजी से dairy business शुरू करना चाहते हैं तो यह विकल्प भी मौजूद है.
अगर आप 2 दुधारू पशु वाली Dairy unit शुरू करते हैं तो आपको 35 हजार रुपये तक की subsidy मिल सकती है.
अगर आप SC/ST category में आते हैं तो आपको दो पशु वाली dairy पर 46,600 रुपये की subsidy मिल सकती है.

दूध उत्पाद बनाने के लिए उपकरण पर subsidy
Diary उद्यमिता विकास योजना (DEDS) के तहत दुध उत्पाद (milk product) बनाने की units शुरू करने के लिए भी subsidy दी जाती है. DEDS scheme के तहत आप दूध उत्पाद की promising के लिए उपकरण खरीद सकते हैं.
अगर आप इस तरह की machine खरीदते हैं और उसकी कीमत 13.20 लाख रुपये आती है तो आपको इस पर 25 present (3.30 लाख रुपये) की capital subsidy मिल सकती है.
अगर आप एससी/एसटी category से आते हैं तो आपको इसके लिए 4.40 लाख रुपये की subsidy मिल सकती है.


Milk cold storage भी बना सकते हैं


आप dairy उद्यमिता विकास योजना (DEDS) के तहत दूध और दूधे से बने उत्पाद के संरक्षण के लिए cold storage unit भी शुरू कर सकते हैं.
इस तरह का Cold Storage बनाने में अगर आपकी लागत 33 लाख रुपये आती है तो इसके लिए Goverment सामान्‍य वर्ग के आवेदक को 8.25 लाख रुपये और एससी/एसटी category के लोगों को 11 लाख रुपये तक की subsidy मिल सकती है.

What is the Deds scheme


क्या है (DEDS) scheme में शामिल
राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) की तरफ से dairy उद्यमिता विकास योजना (DEDS) के तहत पशु खरीदने, बछड़ा पालन, वर्मी कंपोस्ट, डेयरी पार्लर, दुग्ध शीतलन व अन्य कार्यों के लिए लघु व सीमांत किसानों सहित समूहों को प्राथमिकता दी जाती है.


इस ख़बर के बारे में और अधिक जानकारी के लिए आप https://www.nabard.org/content.aspx?id=591 पर visit कर सकते है.

DEDS के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप इस लिंक पर क्लिक कर सकते हैं: https://www.nabard.org/auth/writereaddata/File/Circular-DEDS%202018-19.pdf

Post a Comment

0 Comments