About Me

Mutual Fund kya he isme invest kaise kare In Hindi - what is mutual fund

Mutual Fund kya he isme invest kaise kare In Hindi

Mutual Fund kya he isme invest kaise kare In Hindi

Mutual fund kya he usko kaise start kare Fund in Hindi 


Mutual fund क्या है कैसे काम करता है और क्या हैं इसके फायदे और नुकसान आइये आज hindi में जानते हैं. यूनिट किसे कहते हैं, mutual fund की जानकारी, इसमें inwest कैसे कर सकते हैं और कैसे यह share bajar में सीधे निवेश करने के बजाए ज्यादा सुरक्षित निवेश माना जाता है। ज्यादातर लोगों को mutual fund अथवा इस जैसे अन्य वित्तीय शब्दजाल सुन कर डर लगता है। आप बारीकी से इसे देखो तो mutual fund की बुनियादी बातों को समझने के लिए डरने की वास्तव में बहुत ज्यादा आवश्यकता नहीं है।

Mutual Fund Meaning in Hindi


Mutual Fund Meaning in Hindi


Information in Hindi about Mutual Funds


1 Mutual Fund क्या है


2 Mutual Fund In Hindi


3 यूनिट क्या है


4 Mutual Fund को कैसे समझें


5 Mutual Fund कैसे काम करता है


6 Shares और Mutual Fund में निवेश का अंतर


7 NAV


8 Mutual Fund के फायदे


9 कहाँ करें निवेश


10 SIP के द्वारा निवेश करना आसान


11 क्यों है Mutual Fund निवेशकों की पसंद


12 Mutual Fund के नुकसान


13 एसेट मैनेजमेंट कंपनियां


14 Mutual Fund कैसे खरीदें


Mutual Fund क्या है

Mutual Fund kya he isme invest kaise kare In Hindi

निवेशकों की एक बड़ी संख्या के द्वारा जमा राशि को mutual fund कहते हैं जिसे एक फण्ड में डाल दिया जाता है। fund manager इस पैसे को विभिन्न वित्तीय साधनों में निवेश करने के लिए अपने निवेश प्रबंधन कौशल का उपयोग करता है। mutual fund कई तरह से निवेश करता है जिससे उसका रिस्क और रिटर्न निर्धारित होता है। यहां समझिये mutual funds में डायरेक्ट प्लान क्या होते हैं।

Mutual Fund In Hindi


Mutual fund छोटे निवेशकों को इक्विटी, बॉन्ड और अन्य प्रतिभूतियों के विशेषज्ञों द्वारा प्रबंधित portfolio में भाग लेने का मौका प्रदान करते हैं। इसलिए प्रत्येक निवेशक fund के लाभ या हानि में आनुपातिक रूप से भागीदार होता है। mutual fund बड़ी संख्या में प्रतिभूतियों में निवेश करते हैं और इनके प्रदर्शन को आमतौर पर इनके द्वारा निवेश के कुल AMU यानी एसेट अंडर मेनेजमेंट में बदलाव के रूप में track किया जाता है।

यूनिट क्या है ( what is unit )


जब बहुत से निवेशक मिल कर एक fund में inwest करते हैं तो fund को बराबर बराबर हिस्सों में बाँट दिया जाता है जिसे इकाई या यूनिट Unit कहते हैं.

Example के लिये मान लीजिये कि कुछ दोस्त मिल कर एक जमीन का टुकडा खरीदना चाहते हैं। सौ वर्ग गज के जमीन के टुकडे की कीमत एक लाख रुपये है। अब यदि इस fund को दस रु कि units में बांटेंगे तो 10,000 units बनेंगे. Inwest जितने चाहे उतने unit अपनी निवेश क्षमता के अनुसार खरीद सकते हैं. यदि आपके पास केवल एक हज़ार रुपये निवेश के लिए हैं तो आप सौ unit खरीद सकते हैं. उसी अनुपात में आप भी उस निवेश (जमीन के) मालिक हो गए.

यह पोस्ट भी आपके काम आ सकती हैं तो उसको भी पढें
👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇

यह भी पढें :- 10 Top Demat & Trading Account Opening all information in Hindi

यह भी पढें :- 5Paisa me Demat and trending account Open kaise kare all information in hindi

यह भी पढें :- Stock Market Investment Tips (Hindi) – शेयर बाज़ार में निवेश से पहले समझ लें ये गोल्डन रूल्स

यह भी पढें :- PhonePe mobile wallet account se paise kaise transfer kare all information in Hindi

यह भी पढें :- मुद्रा योजना में 20 लाख तक का लोन कैसे प्राप्त करें । Apply For PM Mudra Yojana Full information

यह भी पढें :- Apply for Personal Loan Full information In Hindi – पर्सनल लोन अप्लाए कैसे करे पूरी जानकारी हिन्दी में

Mutual Fund को कैसे समझें


Mutual Fund in Hindi

Mutual Fund kya he isme invest kaise kare In Hindi

Mutual Fund in Hindi म्यूचुअल फंड क्या है


अब मान लीजिये की इस एक लाख के inwest की price बढ़ कर एक month के बाद रुपये 1,20,000 हो गयी. अब इस निवेश के अनुसार unit की price निकाली जायेगी तो दस रुपये वाला unit अब बारह रुपये का हो चुका है. जिस निवेशक ने एक हजार रुपये में सौ unit खरीदे थे, बारह रुपये प्रति unit के हिसाब से अब उसका invest (100X12) रुपये 1200 हो चुका है.

एक investors के रूप में आप द्वारा invest की गई राशि पर आधारित है कि आप कितनी units के मालिक हैं। इसलिए, एक investors भी एक unit धारक के रूप में जाना जा सकता है। इसमें से अर्जित अन्य आय के साथ-साथ निवेश के मूल्य में वृद्धि को लागू व्यय, भार और करों को घटाने के बाद units की संख्या के साथ अनुपात में investors/units धारकों को बांट दिया जाता है।

Mutual Fund कैसे काम करता है


Mutual fund प्रोफेशनल फंड मैनेजरों यानी पेशेवर प्रबंधकों द्वारा संचालित होते हैं, जो fund की संपत्ति को इस तरह से invest करते हैं जिससे कि fund के निवेशकों के लिए पूंजीगत लाभ या आय प्राप्त की जा सके। mutual fund के portfolio को इसके प्रॉस्पेक्टस में बताए गए निवेश उद्देश्यों के अनुसार बनाया जाता है।

Shares और Mutual Fund में invest का Different 


Mutual fund के में invest करना और Shares में invest करने से अलग है। शेयरधारकों के अधिकारों में मतदान का अधिकार शामिल होता है मगर इसके विपरीत mutual fund अपने यूनिटधारकों को कोई मतदान का अधिकार नहीं देते हैं। share में invest करने के लिये किसी एक company का share खरीदा जा सकता है मगर mutual fund का एक unit कई अलग-अलग share (या अन्य प्रतिभूतियों) में invest का हिस्सा होता है। share को बाजार के काम के घंटों में बेचा या खरीदा जा सकता है और बाजार के घंटों के दौरान इनकी कीमतों में उतार-चढ़ाव होता रहता है लेकिन इनके NAV को प्रत्येक व्यापारिक दिन के अंत में तय किया जाता है।

NAV


Mutual fund unit की price को नेट एसेट वैल्यू (एनएवी) प्रति unit के रूप जाना जाता है। fund का एनएवी portfolio में प्रतिभूतियों के कुल वैल्यू को बकाया यूनिटों की कुल संख्या से विभाजित करके निकाला जाता है। mutual fund यूनिटों को आमतौर पर fund के वर्तमान एनएवी पर खरीदा या बेचा जा सकता है।

Mutual Fund के फायदे

Mutual Fund kya he isme invest kaise kare In Hindi

एक छोटा investors जो कि बड़ा invest नहीं कर पाता उसे छोटे छोटे units में invest करने की सुविधा मिल जाती है। इसके अलावा इनका सबसे बड़ा फायदा यह है कि एक निवेशक जिसे बाज़ार की अधिक जानकारी नहीं है वह अपना निवेश विशेषज्ञों के हाथ में छोड़ देता है। कहाँ, कैसे और कब निवेश करना है यह विशेषज्ञ निर्धारित करते हैं। यहां पढ़ें mutual fund के सभी फायदे विस्तार से।

कहाँ करें निवेश


Mutual fund कई तरीके से निवेश करते है। सबसे प्रमुख बॉंड तथा Stock Market हैं। इसके अलावा Gold अथवा अन्य किसी माल (Commodities) में निवेश कर सकते है। fund के कई प्रकार होते हैं जिन्हें उनके निवेश के अनुसार जाना जाता है. मुख्य हैं date fund, Equity fund और बैलेंस्ड फण्ड। बैलेंस्ड फण्ड को हाइब्रिड फंड भी कहते हें।  सबसे अधिक विविधिता Equity fund में पायी जाती है। टॉप म्यूचूअल फंड स्कीम निवेश करने के लिए कौन सी हैं यह भी जान लें।

SIP के द्वारा निवेश करना आसान


Mutual fund में SIP द्वारा invest कर सकते हैं। SIP वास्तव में Systematic Investment Plan यानी व्यवस्थित invest scheme है जिसमें आमतौर पर निवेशक पहले से निर्धारित राशि प्रति माह निवेश करता है। आप हमारी website पर SIP क्या है विस्तार से पढ़ सकते हैं।

क्यों है Mutual Fund निवेशकों की पसंद


हाल ही के समय में mutual fund निवेश के विकल्प के रूप में बहुत तेज़ी से उभरा है और अधिक से अधिक लोग इसमें invest कर रहे हैं। इसका मुख्य कारण है कि इन योजनाओं में निवेश करना आसान है और SIP के द्वारा इन में निवेश करना अधिक से अधिक लोगों की पसंद बनता जा रहा है। जहाँ Bank's में ब्याज कम होता जा रहा है वहाँ invest करने के लिए Mutual Fund बहुत अच्छा विकल्प है। लम्बे समय तक invest किया जाए तो यह निवेश पर सबसे अधिक रिटर्न प्राप्त करने का ज़रिया बन सकता है।

Mutual Fund के नुकसान


तरलता, विविधीकरण और पेशेवर प्रबंधन एक छोटे और नौसिखिए निवेशक को mutual fund की ओर आकर्षित करते हैं। हालांकि कोई भी निवेश बिना कमियों के नहीं होता है और इसलिये mutual fund में भी अपनी कमियां हैं। शेयरों की कीमतों की तरह इनकी यूनिटों की NAV में भी उतार चढ़ाव होता है। हालांकि इनका निवेश पेशेवर प्रबंधकों द्वारा संचालित होता है और वे आम निवेशकों और बाजार में मिलने वाले रिटर्न से बेहतर हो सकते हैं फिर भी mutual fund में निवेश पर return की गारंटी नहीं होती और यह बाजार के रिस्क से प्रभावित हो सकता है। पढ़ें mutual fund में निवेश में रिस्क बहुत कम होता है

एसेट मैनेजमेंट कंपनियां


AMC यानी एसेट मैनेजमेंट company इन फंडों का प्रबंधन करतीं हैं। अधिकतर एसेट मैनेजमेंट कंपनियां बड़ी निवेश कंपनियों का हिस्सा हैं। india में कुछ जानी मानी एसेट मैनेजमेंट कंपनियां हैं:

ICICI प्रूडेंशल


HDFC


आदित्य बिड़ला सन लाईफ


रिलायंस


SBI


L&T


कोटक महेंद्रा


फ्रेंकलिन टेंपलटन


Mutual Fund कैसे खरीदें


Mutual fund आप offline और online दोनों तरीके से खरीद सकते हैं। निवेश करने से पहले आप पूरी तरह शोध करके यह निश्चित कर लें कि आपको किस एसेट मैनेजमेंट कंपनी की किस scheme में निवेश करना है। अलग अलग तरह के mutual funds, उनके निवेश का उद्देश्य, portfolio और पिछला प्रदर्शन भी जांच लें हालाँकि पिछला प्रदर्शन कभी इस बात की गारंटी नहीं हो सकता कि भविष्य में भी scheme वैसा ही प्रदर्शन करेगी जैसा उसने पहले प्रदर्शन किया है।

यह था Mutual Fund working and benefits in Hindi जिसमें हमने समझा कि म्यूचुअल फंड क्या है, इसके फायदे नुकसान और क्यों है यह निवेश के लिये सबकी पहली पसंद।
हमारा यह article आपको पसंद आया है तो आप आगे जरूर भेजे। 

Post a Comment

0 Comments